Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने का उपाय

किसी का राष्ट्रीय संसाधनों पर
वाजिब क़ब्ज़ा कराने से पहले!
किसी को शिक्षा और नौकरी में
बराबर हिस्सा दिलाने से पहले!!
जब पूछना बंद कर दोगे जात
भारत बन जाएगा हिंदू राष्ट्र!
किसी से रोटी और बेटी का
अपना रिश्ता बनाने से पहले!!
#humanity #मानवता #love
#जाति #वर्ण #शोषण #उत्पीड़न
#अपमान #शूद्र #रामचरितमानस
#मनुस्मृति #दलित #आदिवासी
#पिछड़ा #आरक्षण #Caste #हिंदू
#हिंदुत्व #धर्म #मंदिर_प्रवेश #बराबरी

Language: Hindi
501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
ओसमणी साहू 'ओश'
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
पिया घर बरखा
पिया घर बरखा
Kanchan Khanna
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
"" *हाय रे....* *गर्मी* ""
सुनीलानंद महंत
? ,,,,,,,,?
? ,,,,,,,,?
शेखर सिंह
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
"अह शब्द है मजेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
Arvind trivedi
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
# नमस्कार .....
# नमस्कार .....
Chinta netam " मन "
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
Manisha Manjari
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
....नया मोड़
....नया मोड़
Naushaba Suriya
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
Loading...