Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2024 · 1 min read

भारत को निपुण बनाओ

प्रेम भाव से मिलकर सब जन,
शिक्षा का नव दीप जलाओ।
आंगनवाड़ी शिक्षक साथी,
निज भारत को निपुण बनाओ।।

माना मुश्किल पथ है अतिशय,
नहीं कभी पर तुम घबराना।
कंटक पथ के दूर हटा के,
शांत भाव से बढ़ते जाना।
नियत लक्ष्य है पाना हमको,
ऐसा अपना साज सजाओ।
आंगनवाड़ी शिक्षक साथी,
निज भारत को निपुण बनाओ।।

बालवाटिका का हर बालक,
हिंदी वर्णों को पहचाने।
पहचान गणित के अंको को,
जोड़ घटाना करना जाने।
पढ़े लिखे हर बच्चा अपना,
गतिविधि के मधु खेल खिलाओ।
आंगनवाड़ी शिक्षक साथी,
निज भारत को निपुण बनाओ।।

समझ समझ के हिंदी पढ़ ले,
गणित क्रियाओं को भी जाने।
सुफलित तब अपना श्रम समझो,
निपुण स्वयं को शिक्षक माने।
सत्य भाव से सबजन साथी,
अपने सारे कर्म निभाओ।
आंगनवाड़ी शिक्षक साथी,
निज भारत को निपुण बनाओ।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम
कानपुर नगर

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 1 Comment · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
सच और झूठ
सच और झूठ
Neeraj Agarwal
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
पिता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
मेरे शब्दों में जो खुद को तलाश लेता है।
मेरे शब्दों में जो खुद को तलाश लेता है।
Manoj Mahato
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
#बैठे_ठाले
#बैठे_ठाले
*Author प्रणय प्रभात*
सब बढ़िया
सब बढ़िया
Dr. Mahesh Kumawat
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
शेखर सिंह
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagawan Roy
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
Loading...