Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2018 · 1 min read

भारत की सदा ही जय

भारत की सदा ही जय
*****

भारत तेरे टुकड़े होंगे कहने वाले गद्दारो

मातृभूमि माता सम होती इसको कैसे भूल गये..

अपनी माँ के टुकड़े करके देखो फिर तुम चिल्लाना

भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाअल्लाह इंशाअल्लाह

कालिख हो,तुम इस धरती की पैदाइश हो, लानत है

जिसने प्रेम से सींचा पोषा उसको छलते ,लानत है

अपने घर को अपने हाथों तोड़ो फिर ये समझाना

भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाअल्लाह इंशाअल्लाह

मुस्लिम हो या हिंदू हो तुम हो या ईसाई कोई

लेकिन हिंदुस्तानी हो तुम हमको इसमें शंका है

भारत की मिट्टी के जन्मे माँ की इज्ज़त करते हैं

तुम तो अपने बाप की पैदाइश हो इसमें शंका है

जिस डाली पर बैठ रहे हो उसे काटने वाले जाहिल

तेरे लाखों टुकड़े होंगे इंशाअल्लाह इंशाअल्लाह

©®
अंकिता कुलश्रेष्ठ

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
— मैं सैनिक हूँ —
— मैं सैनिक हूँ —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिवाजी
शिवाजी
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*प्रणय प्रभात*
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"सुखद अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
सफल
सफल
Paras Nath Jha
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
पहले उसकी आदत लगाते हो,
पहले उसकी आदत लगाते हो,
Raazzz Kumar (Reyansh)
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#मज़दूर
#मज़दूर
Dr. Priya Gupta
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
Shubham Pandey (S P)
याद रे
याद रे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
2957.*पूर्णिका*
2957.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
Loading...