Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2019 · 1 min read

” भाग बदा भी यहाँ टरे ” !!

आज तुम्हारे नाम है अपना ,
कल की चिंता कौन करे !
समय यहाँ अठखेली करता ,
अपने सारे सपन झरे !!

हाड़तोड़ मेहनत करते तब ,
अपनी यहाँ गुजर होती !
नीली छतरी का सरमाया ,
अपनी जहाँ बसर होती !
काम खरा हो तब जाकर जग ,
यहाँ हथेली नगद धरे !!

दामन से तुमको बांधा है ,
पवन झकोरे करे हवा !
आतप के सम्मुख , मैं ठहरी ,
पलपल जैसे हुए जवां !
उम्मीदें रोशन लगती हैं ,
भाग बदा भी यहाँ टरे !!

धूप घनेरी , छाँव कहाँ है ,
अपने हिस्से तपन यहाँ !
कौन परायी पीर में उलझे ,
सब करते हैं ठगन यहाँ !
मीठे बोल को हम तरसे हैं ,
सब बोले हैं खरे खरे !!

बंजारिन आशाएं देखो ,
रंग नया भर जाती हैं !
उम्मीदों की डोर कसी तो ,
खुशियाँ झूमी जाती है !
है भविष्य भी बंधा बंधा सा ,
हम भी हैं कुछ डरे डरे !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
वो मेरी कविता
वो मेरी कविता
Dr.Priya Soni Khare
आबरू भी अपनी है
आबरू भी अपनी है
Dr fauzia Naseem shad
हृदय तूलिका
हृदय तूलिका
Kumud Srivastava
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
प्याली से चाय हो की ,
प्याली से चाय हो की ,
sushil sarna
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
भावो को पिरोता हु
भावो को पिरोता हु
भरत कुमार सोलंकी
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
■ सोच लेना...
■ सोच लेना...
*प्रणय प्रभात*
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
ruby kumari
3082.*पूर्णिका*
3082.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
यहां लोग सच बोलने का दावा तो सीना ठोक कर करते हैं...
यहां लोग सच बोलने का दावा तो सीना ठोक कर करते हैं...
Umender kumar
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...