Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

भाग्य

विषय-भाग्य
मात्रा -14/15

कर्म से भागे मत फिरो, कर्म ही भाग्य बनाता है।
मनुज कर्म की सद्गति से, उज्जवल मस्तक पाता है।

सुख-दुखों के व्यापार में, जिसने भी शांति पाई है।
सब मूल्यों से ऊपर उठ, मस्तक लकीर बनाई है।

लिखा भाग्य में जो आया, कहो कौन मिटा सकता है।
खेल न्यारे कर्म के नर, भाग्य अपना लिख सकता है।

बेल प्रेम की बो देखो, अमृत से फल वह पाता है।
विधिना क्या लिखती उस पर, जो निज रेखा बनाता है।

ललिता कश्यप जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमको तो आज भी
हमको तो आज भी
Dr fauzia Naseem shad
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
कितना कुछ सहती है
कितना कुछ सहती है
Shweta Soni
"तेरी खामोशियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
कविका मान
कविका मान
Dr. Sunita Singh
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
In the end
In the end
Vandana maurya
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...