Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

भाग्य

कभी तो भाग्य अपना भी जगेगा।
तभी सत्कर्म भी सारा फलेगा ।।

किया हमने कभी उपकार जिन पर ।
वही फिर याद सब बनकर जगेगा ।।

नहीं समझा कहा अपना जिसे वह।
बना दुश्मन हमें वह यूँ छलेगा ।।

बहुत से स्वप्न जो मन में दबे हैं ।
वही धर रूप फूलों – सा खिलेगा ।।

बहुत ही पीर इस मन में दबी है ।
नहीं फिर होंठ कब तक ये हिलेगा ।।

लगा ताला यहाँ मुख पर सभी के।
कभी जनमन मुखर को ये खलेगा ।।

चलो अब काम भर दृढ़ता करें हम ।
तभी यह भाग्य सुन्दर-सा जगेगा ।।

वही छवि आज मनहर है लुभाती ।
मुझे वह रूप दर्शन कब मिलेगा।।

डाॅ सरला सिंह “स्निग्धा”
दिल्ली

Language: Hindi
29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लोगों के रिश्तों में अक्सर
लोगों के रिश्तों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता है
Jogendar singh
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
रूह की चाहत🙏
रूह की चाहत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
प्रेम की पाती
प्रेम की पाती
Awadhesh Singh
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
World News
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
तेरे शहर में आया हूँ, नाम तो सुन ही लिया होगा..
तेरे शहर में आया हूँ, नाम तो सुन ही लिया होगा..
Ravi Betulwala
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
"ज्वाला
भरत कुमार सोलंकी
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
सत्य दीप जलता हुआ,
सत्य दीप जलता हुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/169.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/169.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
Loading...