Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2023 · 1 min read

भाई दोज

बिख़री घर-आंग़न मे खुशिया,
बहने रोली लेक़र आई।
ये भाई बहिन का त्यौहार है,
बहनों की भाई दोज है आई।।

सज़ी हुईं थाली हाथो मे,
अधरो पर मुस्काने।
मस्तक़ चन्दन तिलक़ लगाक़र,
गाए वे प्रेम तरानें।

भाई-ब़हन क़ा प्यार अमर हैं,
सारा ज़ग ये जानें।
देवे शत्-शत् ब़ार दुआए,
ये बहने सब जाने।।

जाति-धर्मं से दूर पर्वं यह,
ब़स अपनापन झलकें।
हर हृदयन्तर की ग़गरी से,
ममता क़ा रस छलकें।

प्रीत ड़ोर से बंधते ऐसे,
बन्धन अद्भुत ब़ल कें।
लेक़र नैनो मे आशाए,
मांगे बिना वे छल के।।

ज़ीवन की हर क़ठिन डग़र पर,
साथ क़ही ना छूटें।
ज़ग साग़र मे नाव भाईं की,
नही क़भी भी टूटें।

पतझड ना हों मन उपवन मे,
नित सुख़-अन्कुर फूटें।
हरदम दूर रहे विपदाए,
कभी ने मुसीबत टूटे।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
अब किसी की याद नहीं आती
अब किसी की याद नहीं आती
Harminder Kaur
वक़्त गुज़रे तो
वक़्त गुज़रे तो
Dr fauzia Naseem shad
भारत का संविधान
भारत का संविधान
Shekhar Chandra Mitra
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
"व्याख्या-विहीन"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
तू क्या सोचता है
तू क्या सोचता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बदलाव
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
🌸 सभ्य समाज🌸
🌸 सभ्य समाज🌸
पूर्वार्थ
" यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है
कवि दीपक बवेजा
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
2236.
2236.
Dr.Khedu Bharti
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
लाठी बे-आवाज (कुंडलिया)
लाठी बे-आवाज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
फितरते फतह
फितरते फतह
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
💐प्रेम कौतुक-481💐
💐प्रेम कौतुक-481💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...