Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2023 · 1 min read

“भव्यता”

“भव्यता”
कितनी ही भव्य हो,
“दिव्यता”
के आगे कुछ नहीं।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
हुई बात तो बात से,
हुई बात तो बात से,
sushil sarna
शहर माई - बाप के
शहर माई - बाप के
Er.Navaneet R Shandily
अपनी मंजिल की तलाश में ,
अपनी मंजिल की तलाश में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रज के हमको रुलाया
रज के हमको रुलाया
Neelam Sharma
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
पागलपन
पागलपन
भरत कुमार सोलंकी
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
#लघु_कविता-
#लघु_कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
लिखू आ लोक सँ जुड़ब सीखू, परंच याद रहय कखनो किनको आहत नहिं कर
लिखू आ लोक सँ जुड़ब सीखू, परंच याद रहय कखनो किनको आहत नहिं कर
DrLakshman Jha Parimal
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो जाये
व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो जाये
शेखर सिंह
Loading...