Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*

भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)
—————————————
भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों
नहीं शेखी अक्लमंदी की, हम अपनी बघारे हों
हमें जो चाहे दे देना, हमें जो चाहे मत देना
हमारे फैसले जीवन के, सब मालिक! तुम्हारे हों
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

481 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*
*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
जिंदा है हम
जिंदा है हम
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रिश्तों का विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
शेखर सिंह
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
अपने सपनों के लिए
अपने सपनों के लिए
हिमांशु Kulshrestha
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मन में रखिए हौसला,
मन में रखिए हौसला,
Kaushal Kishor Bhatt
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
सारे यशस्वी, तपस्वी,
सारे यशस्वी, तपस्वी,
*प्रणय प्रभात*
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
Loading...