Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज

भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
राम राज्य स्थापित तभी, बीते रावण राज
महावीर उत्तरांचली

____________________
*अच्छाई की स्थापना (रामराज्य) तभी हो सकती है, जब बुराई (रावणराज) का अंत हो। जय श्रीराम। कौन-कौन मुझसे सहमत हैं?

1 Like · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
Ravi Prakash
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
3212.*पूर्णिका*
3212.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
Tarun Singh Pawar
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
राजनीति और वोट
राजनीति और वोट
Kumud Srivastava
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
Sukoon
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
Er. Sanjay Shrivastava
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
हार
हार
पूर्वार्थ
कोई पागल हो गया,
कोई पागल हो गया,
sushil sarna
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
अनिल "आदर्श"
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
Shreedhar
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
Neelam Sharma
Loading...