Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

भज ले भजन

भज ले , भजन कर ले अरे प्राणी ,
जीवन निश्चय ही तेरा संवार जायेगा ,
नाम ले ले अरे अपने प्रभु का तुम ,
कल आज और कल सुधर जाएगा ।

भज ले, भजन कर ले अरे प्राणी,
तू जिसका है, उसका हो जायेगा ,
जो तेरा है, तेरा ही हो जायगा ,
और कही नहीं कभी वह जायेगा ।

पाप कटेगा , अरे पुण्य भी बढ़ेगा ,
पुरुष से तुम पुरुषोत्तम बन जायेगा,
स्त्री की मर्यादा संवर्धित हो जायेगी,
मोक्ष भी तुम्हे एकदिन मिल जायेगा ।

श्रवण कर लें, जतन व लगन कर ले
तुम्हें मन चाहा , एकदिन मिल जायेगा
भज ले, भजन कर ले अरे प्राणी
जीवन निश्चय तेरा संवर ही जायेगा ।
**************””*************************
@ मौलिक रचना घनश्याम पोद्दार
मुंगेर

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
*श्रम साधक *
*श्रम साधक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गौरैया दिवस
गौरैया दिवस
Surinder blackpen
■ स्वचलित नहीं, रोबोट पर निर्भर रोबोट।
■ स्वचलित नहीं, रोबोट पर निर्भर रोबोट।
*Author प्रणय प्रभात*
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-325💐
💐प्रेम कौतुक-325💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
"जर्दा"
Dr. Kishan tandon kranti
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
मनमीत
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
दुख
दुख
Rekha Drolia
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
Loading...