भजन- मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो

मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो
————————————————
मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो ,
कि तोतली बतिया ने मोह लियो मन मेरो । मोहनी ………
चले तो कटि पैंजनी बजत ,
हँसे तो द्विदतियाँ दिखलावत ।
तेरे द्विदतियाँ ने मोह लियो मन मेरो ।। मोहनी…..
जन्म लियो तो बेडीं खुलि गयीं ,
पद पखारिकें यमुना ढलि गयीं ।
वा काली रतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी..
रूप माधुरी पै बारी जावत ,
रैन – दिवस तेरी सुधि आवत ।
तेरी पिरतिया ने मोह लियो मन मेरो ।। मोहनी…..
बिसरा प्रीति गए हो जब से ,
ऊधों से खत भेजो तब से ।
वा योग के खतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी………….
सोवत – जगत कटत नहिं रतियाँ,
रहि – रहि कें याद आवत बतियाँ ।
प्रेम भरी बतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी…
स्वारथ बिना नेह तुमसे कीयो ,
दिन और रैन तड़फत है हीयो ।
नेह भरी रतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी…
:- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

110 Views
You may also like:
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
कारस्तानी
Alok Saxena
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
पिता
Rajiv Vishal
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
जीवन
Mahendra Narayan
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
बुध्द गीत
Buddha Prakash
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
Is It Possible
Manisha Manjari
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
श्रृंगार
Alok Saxena
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...