Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

भजन- मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो

मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो
————————————————
मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो ,
कि तोतली बतिया ने मोह लियो मन मेरो । मोहनी ………
चले तो कटि पैंजनी बजत ,
हँसे तो द्विदतियाँ दिखलावत ।
तेरे द्विदतियाँ ने मोह लियो मन मेरो ।। मोहनी…..
जन्म लियो तो बेडीं खुलि गयीं ,
पद पखारिकें यमुना ढलि गयीं ।
वा काली रतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी..
रूप माधुरी पै बारी जावत ,
रैन – दिवस तेरी सुधि आवत ।
तेरी पिरतिया ने मोह लियो मन मेरो ।। मोहनी…..
बिसरा प्रीति गए हो जब से ,
ऊधों से खत भेजो तब से ।
वा योग के खतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी………….
सोवत – जगत कटत नहिं रतियाँ,
रहि – रहि कें याद आवत बतियाँ ।
प्रेम भरी बतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी…
स्वारथ बिना नेह तुमसे कीयो ,
दिन और रैन तड़फत है हीयो ।
नेह भरी रतिया ने मोह लियो मन मेरो ।।मोहनी…
:- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Language: Hindi
Tag: गीत
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
नव लेखिका
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Sanjay ' शून्य'
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री महेंद्र प्रसाद गुप्त जी (हिंदी गजल/गीतिका)
श्री महेंद्र प्रसाद गुप्त जी (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
अधूरी रात
अधूरी रात
डी. के. निवातिया
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
गाए चला जा कबीरा
गाए चला जा कबीरा
Shekhar Chandra Mitra
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
जब गुरु छोड़ के जाते हैं
जब गुरु छोड़ के जाते हैं
Aditya Raj
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
If.. I Will Become Careless,
If.. I Will Become Careless,
Ravi Betulwala
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कुकिंग शुकिंग
कुकिंग शुकिंग
Surinder blackpen
बरगद का दरख़्त है तू
बरगद का दरख़्त है तू
Satish Srijan
2807. *पूर्णिका*
2807. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...