Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग

भक्तमार्ग और ज्ञानमार्ग में सबसे बड़ा अंतर यह है कि ज्ञानमार्गी के लिए बुद्धि की आवश्यकता है और भक्तिमार्गी के लिए केवल अनुभव की क्योंकि उसके लिए सब कुछ ईश्वर ही करता है। किंतु समस्या यहाँ खड़ी होती है कि भक्तिमार्गी अच्छे हुए कार्य को ईश्वर से जोड़ देता है और बुरे कार्य को उसके कर्मों से अर्थात सोच से जोड़ देता है, किंतु यह समस्या नहीं बल्कि हल है, जिसका अर्थ है कि अगर व्यक्ति की सोच ईश्वर मार्गी या भक्तिमार्गी होती तो वह बुरे कार्य ही नहीं करता जिससे उसे बुरा परिणाम ना मिलता, उसने ईश्वर की भक्ति से हटकर जो कुछ कर्म किया वह लालच और स्वार्थ विषय से वशिभूत होकर किया, इसलिए उसे बुरा परिणाम मिला। अगर परम् भक्त को कोई दैहिक/दैविक/भौतिक बीमारी या ताप हो जाए तो उस अवस्था में भक्त कहता है कि यह उसके पूर्व जन्मों या प्रारब्ध में किए बुरे कर्मों का फल है जो इस जन्म में भोगकर मैं अपना प्रारब्ध समाप्त कर रहा हूँ। जबकि ज्ञानमार्गी प्रत्येक कार्य का एक भौतिक कारण तलाश करता है, जैसे कैंसर का कारण सिगरेट इत्यादि, भोजन का कारण किसान का अनाज, घर का कारण मिट्टी से बनी ईंट और पैसा, जन्म का कारण संभोग, बीमारी का कारण कोई बैक्टीरिया या वायरस, दिन रात का कारण पृथ्वी का अपनी धुरी पर घूमना, सूर्य के ताप का कारण हीलियम हाइड्रोजन गैस, ब्रह्मांड का कारण बिग बैंग संकल्पना, पदार्थ का कारण अणु परमाणु, इनका कारण इलेक्ट्रान प्रोटोन न्यूट्रॉन, इनका कारण क्वांटम कण इत्यादि और जब कोई कारण नहीं मिलता तो संयोग। इस प्रकार ज्ञान मार्गी हर बार अपने प्रयोग से एक नया कारण तलाश कर ईश्वर को स्रष्टा होने के मार्ग से हटाता रहता है, किंतु भक्तिमार्गी हर कण में ईश्वर को स्थापित कर हर कार्य का कारण ही ईश्वर को बता कर निवृत्त हो जाता है क्योंकि ज्ञान का मूल कारण भी तो ईश्वर ही है। मगर ज्ञान मार्ग भौतिक जगत के लिए परम आवश्यक है जिस प्रकार अध्यात्म जगत के लिए भक्तमार्ग आवश्यक है क्योंकि ज्ञान मार्ग भी तो ईश्वर ने ही बनाया है मनुष्यों में बुद्धि देकर, जो अन्य जीवों में नहीं है। किंतु यह सत्य है कि बगैर बुद्धि के ना तो भक्ति हो सकती ना ज्ञान की बातें क्योंकि जानवर में विचारात्मक बुद्धि नहीं है इसलिए वो भक्ति नहीं करते बल्कि इंद्रिय जरूरतों से परिचालित होते हैं। व्यान मार्ग ईश्वर के संसार को इंसानों के रहने योग्य और सुविधायोग्य बनाता है।

प्रशांत सोलंकी

Language: Hindi
Tag: लेख
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
Labour day
Labour day
अंजनीत निज्जर
आइए मोड़ें समय की धार को
आइए मोड़ें समय की धार को
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
sudhir kumar
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
"पर्सनल पूर्वाग्रह" के लँगोट
*Author प्रणय प्रभात*
हम तो मर गए होते मगर,
हम तो मर गए होते मगर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
समय के झूले पर
समय के झूले पर
पूर्वार्थ
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2467.पूर्णिका
2467.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बंदर का खेल!
बंदर का खेल!
कविता झा ‘गीत’
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
.
.
शेखर सिंह
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
Loading...