Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2018 · 1 min read

ब्रजमहिमा

?? पुनीत छंद ??
?विधान – १५ मात्रा प्रति चरण, चार चरण,
दो-दो समतुकांत, चरणान्त २२१
??????????

बंसी बजा रहे गोपाल।
बैरन बनी सौतिया ताल।।
घर के सिगरे छूटे काज।
मोहन आय न तोहे लाज।।

अधरन सोहे कैसे भाग?
जा सौतन में लागै आग।।
भूली सुध-बुध सखि री आज।
‘तेज’ निगोड़ी की आवाज।।

आज मिले हरि यमुना तीर।
भरने जब हम जातीं नीर।।
मग रोकत है बाँका श्याम।
लागत है सखि सुख का धाम।।

मनमोही छवि ब्रज का भूप।
मन मन्दिर में बसता रूप।।
बाँकी चितवन तीखे नैन।
छीन रहे हैं उर का चैन।।

सुन-सुन मधुरिम मुरली राग।
सुर-नर मुनि के जागें भाग।।
जब सन्मुख हों परमानन्द।
पाते हैं अद्भुत आनन्द।।

??????????
?तेज✏मथुरा✍?

Language: Hindi
1 Like · 350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भीग जाऊं
भीग जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
2579.पूर्णिका
2579.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
इंजी. संजय श्रीवास्तव
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मां
मां
Dheerja Sharma
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
घाव वो फूल है…..
घाव वो फूल है…..
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
भूमकाल के महानायक
भूमकाल के महानायक
Dr. Kishan tandon kranti
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
लोगों को जगा दो
लोगों को जगा दो
Shekhar Chandra Mitra
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सांसें स्याही, धड़कनें कलम की साज बन गई,
सांसें स्याही, धड़कनें कलम की साज बन गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
🙅राष्ट्र-हित में🙅
🙅राष्ट्र-हित में🙅
*प्रणय प्रभात*
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
Paras Nath Jha
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
सत्य कुमार प्रेमी
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
Phool gufran
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
नाराज नहीं हूँ मैं   बेसाज नहीं हूँ मैं
नाराज नहीं हूँ मैं बेसाज नहीं हूँ मैं
Priya princess panwar
हिंदुत्व - जीवन का आधार
हिंदुत्व - जीवन का आधार
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...