Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

*सुंदर भरत चरित्र (कुंडलिया)*

सुंदर भरत चरित्र (कुंडलिया)
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️
बोलो किसने है जिया, सुंदर भरत चरित्र
चौदह वर्ष बिता दिए, लिए राम का चित्र
लिए राम का चित्र, कुशा पर हर दिन सोए
करते यों तो राज, भाव तपसी में खोए
कहते रवि कविराय, चलो इतिहास टटोलो
अनुपम भरत महान, भरत जी की जय बोलो
➖➖➖➖➖➖➖➖➖
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
"वीर शिवाजी"
Dr. Kishan tandon kranti
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
वक्त  क्या  बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
वक्त क्या बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बैठा के पास पूंछ ले कोई हाल मेरा
बैठा के पास पूंछ ले कोई हाल मेरा
शिव प्रताप लोधी
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
वो मेरी कविता
वो मेरी कविता
Dr.Priya Soni Khare
इंटरनेट
इंटरनेट
Vedha Singh
महानगर के पेड़ों की व्यथा
महानगर के पेड़ों की व्यथा
Anil Kumar Mishra
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
Lokesh Sharma
■ समझने वाली बात।
■ समझने वाली बात।
*प्रणय प्रभात*
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
आंसुओं के समंदर
आंसुओं के समंदर
अरशद रसूल बदायूंनी
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...