Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

बोलना शुरू करो

सच बोलना ही
जहां गुनाह हो जाए!
अब क्यों न वह
देश तबाह हो जाए!!
मेरा क़त्ल-नामा
एक चेतावनी है जिससे!
वक़्त रहते ही
तू आगाह हो जाए!!
#GauriLankesh #धर्मांध #पत्रकार
#विचार_की_स्वतंत्रता #अभिव्यक्ति
#FreedomOfSpeech #बुद्धिजीवी
#हत्या #सच #धर्मनिरपेक्ष #इंकलाबी

13 Views
You may also like:
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
Little sister
Buddha Prakash
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
तेरा बस इंतज़ार रहता है
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
आकांक्षा राय
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
अनामिका के विचार
Anamika Singh
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
# पिता ...
Chinta netam " मन "
पिता
Dr.Priya Soni Khare
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
मन
शेख़ जाफ़र खान
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
Loading...