Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

” बोलती आँखें सदा “

गीत

भेद दिल के खोल देती ,
बोलती आँखें सदा !!

हम जुबां को बंद कर लें ,
अधर को सिल लें भले !
भाव आनन के छिपा लें ,
भले जग को भी छलें !
नयन का गहरा समंदर ,
डोलती आँखे सदा !!

दर्द झेलें या छिपाए ,
कहें चाहे अनकहे !
खुशी को कैसे समेटें ,
गंध जैसी है बहे !
वणिक तोले ज्यों समय को ,
तौलती आँखें सदा !!

नेह नयनों में पले है ,
चाह भी पलती यहाँ !
छवि यहाँ बसती अनूठी ,
प्रतीक्षा छलती यहाँ !
प्रीत का रस पावनी जो ,
घोलती आँखें सदा !!

प्रश्न आँखों में उभरते ,
हल यही करती रही !
झूँठ से परहेज करती ,
सच मगर कहती रही !
है परत मन की घनेरी ,
खोलती आँखें सदा !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
View all
You may also like:
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
gurudeenverma198
👌फार्मूला👌
👌फार्मूला👌
*Author प्रणय प्रभात*
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
Er. Sanjay Shrivastava
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने ग़मों को भी संभालना सीखा दिया।
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने ग़मों को भी संभालना सीखा दिया।
Manisha Manjari
परीक्षा है सर पर..!
परीक्षा है सर पर..!
भवेश
वाह सीनियर लोग (हिंदी गजल/गीतिका)
वाह सीनियर लोग (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
🫡💯मेरी competition शायरी💯🫡
🫡💯मेरी competition शायरी💯🫡
Ms.Ankit Halke jha
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
देश हमरा  श्रेष्ठ जगत में ,सबका है सम्मान यहाँ,
देश हमरा श्रेष्ठ जगत में ,सबका है सम्मान यहाँ,
DrLakshman Jha Parimal
होली के रंग
होली के रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
बीड़ी की बास
बीड़ी की बास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हमको
हमको
Divya Mishra
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
💐अज्ञात के प्रति-98💐
💐अज्ञात के प्रति-98💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
लोधी क्षत्रिय वंश
लोधी क्षत्रिय वंश
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
गीत-3 (स्वामी विवेकानंद)
गीत-3 (स्वामी विवेकानंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...