Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2022 · 1 min read

बैठ पास तू पहलू में मेरे।

हर ख्वाहिश पर दम निकाल दूं।
गर तू कहें तो खुदको बिगाड़ दूं।।

आकर बैठ पास तू पहलू में मेरे।
मैं तुझकों तेरी रूह से संवार दूं।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन को जीवन सा
जीवन को जीवन सा
Dr fauzia Naseem shad
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
💐प्रेम कौतुक-519💐
💐प्रेम कौतुक-519💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बदलता दौर
बदलता दौर
ओनिका सेतिया 'अनु '
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आदमखोर बना जहाँ,
आदमखोर बना जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य खोज लिया है जब
सत्य खोज लिया है जब
Buddha Prakash
हर एक शख्स से ना गिला किया जाए
हर एक शख्स से ना गिला किया जाए
कवि दीपक बवेजा
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुद को इतना हंसाया है ना कि
खुद को इतना हंसाया है ना कि
Rekha khichi
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
दिनांक:-२३.०२.२३.
दिनांक:-२३.०२.२३.
Pankaj sharma Tarun
मत फेर मुँह
मत फेर मुँह
Dr. Kishan tandon kranti
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Ravi Prakash
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
बगुले तटिनी तीर से,
बगुले तटिनी तीर से,
sushil sarna
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...