Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

बे-असर

खाये हैं हमने खलिश-ए-तीर-ए-बे-पनाह
बस अब तो सब बे-असर सा लगता है

आजकल कुछ खिंचे खिंचे से रहते हैं
उनके लहजे में दुश्मन का असर लगता है

घर जलाने में माहताब-ए-फलक भी था शरीक,
अब हमें चांदनी रातों से भी डर लगता है

ता-उम्र का वादा, उम्र-ए-मुख़्तसर का साथ,
हर्फ़-ए-दिल अब ज़हराबा-ए-पैकर लगता है

क़त्ल-ए-क़ासिद देखा जब हमने रू-ब-रू,
हर शख़्स के खंजर-दर-आसतीं हमें लगता है

थे ज़ुल्फ़-ए-खूबां की नर्म छाँव में कभी ‘सागर’
अपना साया भी अब ग़ैर मोअतबर लगता है

खलिश-ए-तीर-ए-बे-पनाह – bruises from many arrows
माहताब-ए-फलक – moon of sky
शरीक – involved
ता-उम्र – life time
उम्र-ए-मुख़्तसर – short age
हर्फ़-ए-दिल – word of heart
ज़हराबा-ए-पैकर – poisonous form
क़त्ल-ए-क़ासिद – murder of messenger
ख़ंजर-दर-आसतीं – dagger in sleeve
ज़ुल्फ़-ए-खूबां – tresses of beloved
ग़ैर मोअतबर – unreliable

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙅लघुकथा/दम्भ🙅
🙅लघुकथा/दम्भ🙅
*Author प्रणय प्रभात*
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
Mukul Koushik
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
परिवार का सत्यानाश
परिवार का सत्यानाश
पूर्वार्थ
मन
मन
Punam Pande
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
हजार आंधियां आये
हजार आंधियां आये
shabina. Naaz
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
उम्र निकलती है जिसके होने में
उम्र निकलती है जिसके होने में
Anil Mishra Prahari
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
3144.*पूर्णिका*
3144.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
Loading...