Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2022 · 1 min read

‘बेवजह’

मिलना तो था तुम से..
पर कैसे कहूँ…
कहीं तुम ये न पूछ बैठो…
किस लिए?
क्या कहेंगे… हम को भी
नहीं पता।।
काम तो कुछ नहीं.. पर यों ही
मिलना था..
क्या हर बार मिलने की कोई वजह ही हो ये जरूरी है क्या?
कभी-कभी बेवजह मिलना भी
सुकून दे जाता है..और
यही तो वो दौलत है..जिसे
ढूँढते हुए ताउम्र गुजर जाती है
पर क्या तुम मिलना चाहोगे??हमसे बेवजह…
-Gn

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Godambari Negi
View all
You may also like:
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
"लालटेन"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30  न
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30 न
Shashi kala vyas
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
surenderpal vaidya
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
दिल-ए-मज़बूर ।
दिल-ए-मज़बूर ।
Yash Tanha Shayar Hu
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
अगले 72 घण्टों के दौरान
अगले 72 घण्टों के दौरान
*प्रणय प्रभात*
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
Phool gufran
2945.*पूर्णिका*
2945.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...