Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2016 · 1 min read

बेवजह गीतिका छल रही है मुझे

आज फिर से हवा छल रही है मुझे,
महक उसकी अभी मिल रही है मुझे,

दूर मेरा पिया है न जाने कहां,
याद फिर क्यों यहां डस रही है मुझे,

हिचकियां दें गवाही मुझे आज भी,
रूह मेरी स्मरण कर रही है मुझे,

स्वाति अब तू बरस जा न कर बेरुखी,
मैं पपीहा तन्हा कर रही है मुझे,

आज निष्ठा सभी खत्म है शब्द की,
बेवजह गीतिका छल रही है मुझे।

पुष्प ठाकुर

1 Like · 178 Views
You may also like:
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Sahityapedia
प्रयोजन
Shiva Awasthi
" जी हुजूरी का नशा"
Dr Meenu Poonia
बढ़ेगा फिर तो तेरा क़द
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाय की चुस्की
Buddha Prakash
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
असत्य पर सत्य की जीत
VINOD KUMAR CHAUHAN
रक्षाबंधन गीत
Dr Archana Gupta
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Advice
Shyam Sundar Subramanian
नेताजी कहिन
Shekhar Chandra Mitra
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
पैसा
Kanchan Khanna
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
हर जगह तुझको मैंने पाया है
Dr fauzia Naseem shad
ये जरूरी नहीं।
Taj Mohammad
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
दिल से निकली बात
shabina. Naaz
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
'विजय दिवस'
Godambari Negi
हे माँ जानकी !
Saraswati Bajpai
इन्सान
Seema 'Tu hai na'
Loading...