Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 4, 2016 · 1 min read

बेवजह गीतिका छल रही है मुझे

आज फिर से हवा छल रही है मुझे,
महक उसकी अभी मिल रही है मुझे,

दूर मेरा पिया है न जाने कहां,
याद फिर क्यों यहां डस रही है मुझे,

हिचकियां दें गवाही मुझे आज भी,
रूह मेरी स्मरण कर रही है मुझे,

स्वाति अब तू बरस जा न कर बेरुखी,
मैं पपीहा तन्हा कर रही है मुझे,

आज निष्ठा सभी खत्म है शब्द की,
बेवजह गीतिका छल रही है मुझे।

पुष्प ठाकुर

1 Like · 126 Views
You may also like:
आदर्श पिता
Sahil
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
ज़ालिम दुनियां में।
Taj Mohammad
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
ख़ुशी
Alok Saxena
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
साथीला तूच हवे
"अशांत" शेखर
✍️हम सब है भाई भाई✍️
"अशांत" शेखर
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
मांडवी
Madhu Sethi
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
Save the forest.
Buddha Prakash
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
Accept the mistake
Buddha Prakash
केंचुआ
Buddha Prakash
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
उम्मीद से भरा
Dr.sima
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
Loading...