Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

बेरोजगार मजनूं

जो भी हो
आपसे अपनी
असलियत
अब छिपाएं
क्या मैडम!
बेरोजगार थे,
बेरोजगार हैं
और लगता है
बेरोजगार ही
रहेंगे हम!!
#राष्ट्रीयबेरोजगारदिवस #प्रतिभा #गरीब
#इंकलाब #बगावत #सियासत #poor
#बेकार #नौजवान #लैला #मजनूं #प्रेम
#हकमारी #Jobs #बेरोजगारी #महंगाई

Language: Hindi
1 Like · 223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
डॉ.सीमा अग्रवाल
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
*लता (बाल कविता)*
*लता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोहा पंचक. . . .
दोहा पंचक. . . .
sushil sarna
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
कुली
कुली
Mukta Rashmi
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन रथ के दो पहिए हैं, एक की शान तुम्हीं तो हो।
जीवन रथ के दो पहिए हैं, एक की शान तुम्हीं तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
Satish Srijan
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
gurudeenverma198
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
2652.पूर्णिका
2652.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...