Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2023 · 1 min read

*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*

बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)
_________________
पकड़े उँगली चल रहे ,आते दिन हैं याद
बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद
कहाँ पिता के बाद , नहीं कुछ जिम्मेदारी
खाना सोना सैर , जिंदगी प्यारी – प्यारी
कहते रवि कविराय ,आज उलझन में जकड़े
लौटेगा कब काल ,गया जो उँगली पकड़े
___________________
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
😊😊
😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
हास्य कुंडलियाँ
हास्य कुंडलियाँ
Ravi Prakash
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
धरती
धरती
manjula chauhan
तुम क्या हो .....
तुम क्या हो ....." एक राजा "
Rohit yadav
"धरती की कोख में"
Dr. Kishan tandon kranti
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
सांझ सुहानी मोती गार्डन की
सांझ सुहानी मोती गार्डन की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
Dr. Man Mohan Krishna
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
सफर सफर की बात है ।
सफर सफर की बात है ।
Yogendra Chaturwedi
दीप ऐसा जले
दीप ऐसा जले
Kumud Srivastava
दुनिया एक दुष्चक्र है । आप जहाँ से शुरू कर रहे हैं आप आखिर म
दुनिया एक दुष्चक्र है । आप जहाँ से शुरू कर रहे हैं आप आखिर म
पूर्वार्थ
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
Loading...