Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

बेटी से मुस्कान है…

बेटी मेरा मान है, बेटी ही सम्मान।
बेटी से संसार है, बेटी से मुस्कान।।

बेटी लक्ष्मी रूप है, बेटी है वरदान।
बेटी देती है सदा, जीवन में पहचान।।

बेटी खुशियों से भरे, सबके घर परिवार।
बेटी देती है सदा, दो दो कुल को तार।।

बेटो से वो कम नहीं, सदा निभाए फर्ज़।
हर रिश्ते को सहजती, और चुकाए कर्ज़।।

बेटा बेटी में करो, कभी नहीं तुम भेद ।
घर बेटी के जन्म पर, करो नहीं तुम खेद।।

Language: Hindi
2 Likes · 403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
बड़े ही खुश रहते हो
बड़े ही खुश रहते हो
VINOD CHAUHAN
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
लक्ष्मी सिंह
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
"अपने की पहचान "
Yogendra Chaturwedi
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
Akash Agam
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Mukesh Kumar Sonkar
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
Harminder Kaur
इंसान होकर जो
इंसान होकर जो
Dr fauzia Naseem shad
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
भूली-बिसरी यादें
भूली-बिसरी यादें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...