Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

बेटी सयानी हो गयी।

इस जहाँ में इश्क की अदभुत कहानी हो गई।
श्याम की वंशी को सुन राधा दिवानी हो गयी।।1

चांद तारे हँस रहे हैं देखकर अपना मिलन।
आज की ये शाम भी कितनी सुहानी हो गई।।2

रात दिन है फिक्र मुझको एक ही अब तो यहाँ।
घर मेरे भी एक बेटी अब सयानी हो गई।। 3

इश्क ने हमको किया बरबाद है कुछ इस तरह।
दर बदर अपनी ये देखो जिंदगानी हो गई।। 4

देख कर चूल्हे यहाँ ठंडे गरीबों के लगा।
अब बहुत मुश्किल यहाँ रोटी कमानी हो गई।। 5

प्रश्न इक करता हमेशा है परेशां अब मुझे।
झूठ से कमजोर कैसे सच बयानी हो गई।। 6

आज सच बतला रहा हूँ दोस्तों सुन लो जरा।
दीप के दिल पर किसी की हुक्मरानी हो गई।। 7

प्रदीप कुमार “दीप”

2 Comments · 681 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
Satish Srijan
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan sarda Malu
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
जय लगन कुमार हैप्पी
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
■ दास्तानें-हस्तिनापुर
■ दास्तानें-हस्तिनापुर
*Author प्रणय प्रभात*
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
जो हर पल याद आएगा
जो हर पल याद आएगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*पिचकारी की धार है, मुख पर लाल गुलाल (कुंडलिया)*
*पिचकारी की धार है, मुख पर लाल गुलाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...