Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

बेटी सयानी हो गयी।

इस जहाँ में इश्क की अदभुत कहानी हो गई।
श्याम की वंशी को सुन राधा दिवानी हो गयी।।1

चांद तारे हँस रहे हैं देखकर अपना मिलन।
आज की ये शाम भी कितनी सुहानी हो गई।।2

रात दिन है फिक्र मुझको एक ही अब तो यहाँ।
घर मेरे भी एक बेटी अब सयानी हो गई।। 3

इश्क ने हमको किया बरबाद है कुछ इस तरह।
दर बदर अपनी ये देखो जिंदगानी हो गई।। 4

देख कर चूल्हे यहाँ ठंडे गरीबों के लगा।
अब बहुत मुश्किल यहाँ रोटी कमानी हो गई।। 5

प्रश्न इक करता हमेशा है परेशां अब मुझे।
झूठ से कमजोर कैसे सच बयानी हो गई।। 6

आज सच बतला रहा हूँ दोस्तों सुन लो जरा।
दीप के दिल पर किसी की हुक्मरानी हो गई।। 7

प्रदीप कुमार “दीप”

2 Comments · 416 Views
You may also like:
शिकायत लबों पर
Dr fauzia Naseem shad
आज के जीवन की कुछ सच्चाईयां
Ram Krishan Rastogi
बेटी से ही संसार
Prakash juyal 'मुकेश'
मित्र
विजय कुमार 'विजय'
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
*मूॅंगफली स्वादिष्ट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
💐एय मेरी ज़ाने ग़ज़ल💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सरस्वती वंदना
Shailendra Aseem
नीली साइकिल वाली लड़की
rkchaudhary2012
क्या चाहिए….
Rekha Drolia
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
विसर्जन
Saraswati Bajpai
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चित्कार
Dr Meenu Poonia
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
शेर
Rajiv Vishal
खामोशियों ने हीं शब्दों से संवारा है मुझे।
Manisha Manjari
है जी कोई खरीददार?
Shekhar Chandra Mitra
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
'अशांत' शेखर
★ दिल्लगी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ख्वाबों से हकीकत
shabina. Naaz
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कवि दीपक बवेजा
Loading...