Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

*बेटी की विदाई*

बसंती ओढ़ कर चूनर सजी ससुराल जाती है
कली बन फूल गुलशन को सुगंधी से सजाती है
सभी का मन लुभाती सी सुहानी हर अदा इसकी
गमों का दौर जब आता खुशी के गीत गाती है
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
504 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर पानीपती"
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-409💐
💐प्रेम कौतुक-409💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
दिल  है  के  खो  गया  है   उदासियों  के  मौसम  में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
युवराज की बारात
युवराज की बारात
*Author प्रणय प्रभात*
किन्नर व्यथा...
किन्नर व्यथा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उर्वशी कविता से...
उर्वशी कविता से...
Satish Srijan
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कभी कटने से पहले भी,गले में हार होता है 【मुक्तक】*
*कभी कटने से पहले भी,गले में हार होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
शांत मन भाव से बैठा हुआ है बावरिया
शांत मन भाव से बैठा हुआ है बावरिया
Buddha Prakash
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
2479.पूर्णिका
2479.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
*नन्ही सी गौरीया*
*नन्ही सी गौरीया*
Shashi kala vyas
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
आख़िरी बयान
आख़िरी बयान
Shekhar Chandra Mitra
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh Manu
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
मंजिल को अपना मान लिया !
मंजिल को अपना मान लिया !
Kuldeep mishra (KD)
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...