Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2017 · 1 min read

बेटी आई घर-आँगन महकाई

बेटी आई घर-आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

सागर की मोती जैसी
दीया की बाती जैसी
जगमगाती ज्योति आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

पिता की दुलारी है
माँ की प्यारी है
सबकी राजदुलारी आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

कुल दीपक कुल की शान है
दोनों कुल की रखती मान है
मरूभूमि में फूल खिलाती आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

सागर सी गहराई है
इरादा भी फौलादी है
छूने आसमान आई
बेटी आई घर- आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

चाँद तारे मुट्ठी में लाई
सूरज सा चमक लाई
रचने नया इतिहास आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

युगों युगों की कहानी है
प्रीत इसकी पुरानी है
सबकी आँखों में पानी लाई
बेटी आई घर-आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

माँ भारती की बेटी है
राष्ट्र की नव-निर्मात्री है
अमिट छाप छोड़ने आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई ।

Language: Hindi
2 Likes · 891 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
असली नकली
असली नकली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ जीवन सार
■ जीवन सार
*Author प्रणय प्रभात*
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
*सम्मति*
*सम्मति*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
इक तेरा ही हक है।
इक तेरा ही हक है।
Taj Mohammad
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
नीर
नीर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
क्या प्यार है तुमको हमसे
क्या प्यार है तुमको हमसे
gurudeenverma198
इंसानियत का एहसास
इंसानियत का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
*परियों से  भी प्यारी बेटी*
*परियों से भी प्यारी बेटी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
Loading...