Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

बेटियां

गर्भ में पल रही, एक नन्ही कली,
पुष्प शतदल रही, एक नन्ही कली,
मोह छूटे नहीं,लोभ टूटे नहीं,
गोद में छल रही, एक नन्ही कली।

हर्ष से तुम पलो,खुश रहो,खुश रहो।
प्यारी बेटी चलो, खुश रहो खुश रहो।
जन्म लेना सफल, तब पिता मात का।
न्यारी बेटी फलो, खुश रहो खुश रहो।

साथ परिवार है, साथ झूला किये।
हाथ पीले हुये, साथ दूल्हा किये
धन्य हैं बेटियाँ ,पाक उनके कदम।
छोड़ दें मायका, याद मन में लिये।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

Language: Hindi
3 Likes · 154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
ख़त आया तो यूँ लगता था,
ख़त आया तो यूँ लगता था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
राखी
राखी
Shashi kala vyas
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
"बात हीरो की"
Dr. Kishan tandon kranti
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
रंग पंचमी
रंग पंचमी
जगदीश लववंशी
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
Shweta Soni
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
प्रयोग
प्रयोग
Dr fauzia Naseem shad
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
#तेवरी
#तेवरी
*Author प्रणय प्रभात*
2288.पूर्णिका
2288.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*गम को यूं हलक में  पिया कर*
*गम को यूं हलक में पिया कर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
Loading...