Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

बेटियां…….

उदासी छाई हो तो खुशनुमा मंजर बनातीं हैं,
हमारी ज़िंदगी को और भी बेहतर बनातीं हैं|
अभागे हैं जो हरदम बेटियों को कोसते रहते,
अरे ये बेटियाँ ही हैं जो घर को घर बनाती हैं|–आरसी

Language: Hindi
2 Comments · 522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
"मास्टर कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
हर एकपल तेरी दया से माँ
हर एकपल तेरी दया से माँ
Basant Bhagawan Roy
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
माँ सच्ची संवेदना...
माँ सच्ची संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
मेरे वश में नहीं है, तुम्हारी सजा मुकर्रर करना ।
मेरे वश में नहीं है, तुम्हारी सजा मुकर्रर करना ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दलित के भगवान
दलित के भगवान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
मजदूर
मजदूर
Harish Chandra Pande
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
■ हो ली होली ■
■ हो ली होली ■
*Author प्रणय प्रभात*
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-342💐
💐प्रेम कौतुक-342💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
आर.एस. 'प्रीतम'
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
2774. *पूर्णिका*
2774. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदी
हिंदी
Bodhisatva kastooriya
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
कवि दीपक बवेजा
Loading...