Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 28, 2016 · 1 min read

बेटियां…….

उदासी छाई हो तो खुशनुमा मंजर बनातीं हैं,
हमारी ज़िंदगी को और भी बेहतर बनातीं हैं|
अभागे हैं जो हरदम बेटियों को कोसते रहते,
अरे ये बेटियाँ ही हैं जो घर को घर बनाती हैं|–आरसी

2 Comments · 208 Views
You may also like:
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
✍️एक चूक...!✍️
"अशांत" शेखर
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
प्रेम...
Sapna K S
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
नवगीत -
Mahendra Narayan
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
Loading...