Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

बेटियां…….

उदासी छाई हो तो खुशनुमा मंजर बनातीं हैं,
हमारी ज़िंदगी को और भी बेहतर बनातीं हैं|
अभागे हैं जो हरदम बेटियों को कोसते रहते,
अरे ये बेटियाँ ही हैं जो घर को घर बनाती हैं|–आरसी

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Comments · 307 Views
You may also like:
'कभी तो'
Godambari Negi
बयां न कर ,जाया ना कर
Seema 'Tu hai na'
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
ये दुनिया इश्क़ को, अनगिनत नामों से बुलाती है, उसकी...
Manisha Manjari
जीवन
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*ईमानदारी का भूत सवार होना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
खप-खप मरता आमजन
विनोद सिल्ला
■ मारे गए गुलफ़ाम
*Author प्रणय प्रभात*
अच्छा है तू चला गया
Satish Srijan
🚩सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त
Harshvardhan "आवारा"
भक्त कवि श्रीजयदेव 🙏🏻🌹
Pravesh Shinde
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
शेर
Rajiv Vishal
“ फेसबूक मित्रों की मौनता “
DrLakshman Jha Parimal
अवाम
Shekhar Chandra Mitra
स्पंदित अरदास!
Rashmi Sanjay
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
साथ तुम्हारा
मोहन
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
मैथिल ब्राह्मण महासभामे मैथिली वहिष्कार, संस्कृत भाषाके सम्मान !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
Taj Mohammad
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
सावन की शुचि तरुणाई का,सुंदर दृश्य दिखा है।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...