Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2018 · 1 min read

बेटियां अपनी,बेटे पराये

बेटे अपनी ससुराल कि सोचें,
मां बाप कि सोचे बेटी,
जमीन जायदाद कि चाहत सबको,
पर बझंर रह गयी खेती,
सोच नयी यह बिकषित हो रही,
नित इस पर खटपट होती,
मात पिता बेबस हुए ऐसे,
जीवन जीएं वह अब कैसे,
सास बहु में अबतो है बर्चस्व की लडाई,
मां बाप को अब बांट रहे भाई,
थे सुखी जब बिन ब्याहे थे,
मात पिता में ही समाये हुए थे,
दुख दर्द का पुरा ख्याल था,
सब कि खुशीयों को सवाल था,
छोटे बडे का ना कोई मलाल था,
घर में ना तब कोई बवाल था,
पर अब खुन रिस्ता तोड दिया,
मात पिता को छोड दिया,
अब आते नहीं बिन बुलाए,
आकर करते है छलावे,
कम पूंजी मे नही होता गुजारा,
बढ गया है खर्चा हमारा,
नन्हे मन्नो का सवाल है,
अच्छी शिक्षा का भ्रम जाल है,
बुढों का तो अजीब जंजाल है,
बुजूर्ग अब अपनी किस्मत को कोसें,
अपने अरमानो को मसोसें,
पल पल,हर पल मौत पुकारें,
जीवन को अपना धिक्कारें,
जीएं तो अब किसके सहारे,
हो गये जब अपने ही पराये,
क्या क्या अरमानो से बुना था घरोंदा,
कल के लिए था अपना आज को झौंका,
अच्छे कल के लिए बुने थे सपने,
आज पराये हो गये हैं अपने,
और जो कल थे पराये वो ही हैं आज अपने,
समय भी क्या दिन दिखलाये,
बेटीयां हैं अपनी,बेटे हो गये पराये।

Language: Hindi
516 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jaikrishan Uniyal
View all
You may also like:
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
*प्रणय प्रभात*
🤔कौन हो तुम.....🤔
🤔कौन हो तुम.....🤔
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वसंत ऋतु
वसंत ऋतु
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
घर आंगन
घर आंगन
surenderpal vaidya
जो क्षण भर में भी न नष्ट हो
जो क्षण भर में भी न नष्ट हो
PRADYUMNA AROTHIYA
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
मुस्कुरा दीजिए
मुस्कुरा दीजिए
Davina Amar Thakral
आदमी क्यों  खाने लगा हराम का
आदमी क्यों खाने लगा हराम का
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कृति : माँ तेरी बातें सुन....!
कृति : माँ तेरी बातें सुन....!
VEDANTA PATEL
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
sushil yadav
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
जब ज्ञान स्वयं संपूर्णता से परिपूर्ण हो गया तो बुद्ध बन गये।
जब ज्ञान स्वयं संपूर्णता से परिपूर्ण हो गया तो बुद्ध बन गये।
manjula chauhan
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
जाते जाते कुछ कह जाते --
जाते जाते कुछ कह जाते --
Seema Garg
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
क्या यह कलयुग का आगाज है?
क्या यह कलयुग का आगाज है?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
Loading...