Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बेटियाँ

“बेटियां”
“बेटा हो या बेटी है दोनों खुशियों की पेटी,
“वारिस के नाम पे तुमने कैसे माँ की कोख बाटीं,
ये मत भूलो करवाके कन्यादान तुम ही एक दिन,
मांग के अपने घर लाये थे किसी के घर की बेटी।”
#रजनी

415 Views
You may also like:
पिता
Dr.Priya Soni Khare
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
पिता
Deepali Kalra
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
रफ्तार
Anamika Singh
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
Loading...