Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

बेटियाँ, कविता

बेटियाँ
25/09/2022
छंदमुक्त कविता

कभी हिज़ाब के नाम पर ,
कभी लिहाज के नाम पर
रोज मारी जा रहीं बेटियाँ।

कहीं शिक्षा अधिकार के लिए
कहीं शिक्षा की प्राप्ति के लिए
वर्चस्व बढ़ाती जा रहीं बेटियाँ।

नग्नता अभिशाप है आज भी
ग्लेमरस की चौंध है आज भी
विज्ञापनों में छा रहीं है बेटियाँ।

रोज मरती हैं ,रोज जीती हैं।
अपमान के घूँट रोज पीती हैं।
कदमताल किये जा रहीं बेटियाँ ।

जमीन से गगन तक पतंग सी उड़ रहीं।
अपने ही दम पर कामयाब भी हो रहीं।
बढ़ती डोर सी रोज काटी जा रहीं बेटियाँ।

बिन बेटियों के सजता नहीं संसार है।
नवरात्रियों में जँचता नहीं दरबार है।
देवी माँ पूजते,मारी जा रहीं बेटियाँ।

आकाश कुसुम जो बनने लगीं
वहशी दरिंदों को गड़ने लगीं।
हवस का सामान बनाई जा रही बेटियाँ।

निर्भया हो कोई ,चाहे दिव्या बने कोई
अंकिता, सव्या, चाहे वन्या बने कोई
साजिशों के भँवर डुबाई जा रहीं बेटियाँ।

शिक्षित ,व्यापारी बने आज युवक बहुत।
पत्नी वही जो गौरवर्ण,सर्वगुण हो बहुत ।
अँग्रेज न बने,दहेज की आग जल रहीं बेटियाँ।
स्वरचित,मौलिक
@पाखी

2 Likes · 383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक - यूं ही कोई किसी को बुलाता है क्या।
मुक्तक - यूं ही कोई किसी को बुलाता है क्या।
सत्य कुमार प्रेमी
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"फसाद की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मौलिक विचार
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
*आंतरिक ऊर्जा*
*आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
सविता की बहती किरणें...
सविता की बहती किरणें...
Santosh Soni
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
पूर्वार्थ
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
Phool gufran
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
लक्ष्मी सिंह
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन का जीवन
जीवन का जीवन
Dr fauzia Naseem shad
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
ये कैसे होगा कि तोहमत लगाओगे तुम और..
ये कैसे होगा कि तोहमत लगाओगे तुम और..
Shweta Soni
धीरे _धीरे ही सही _ गर्मी बीत रही है ।
धीरे _धीरे ही सही _ गर्मी बीत रही है ।
Rajesh vyas
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
कवि रमेशराज
Loading...