Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 12, 2019 · 1 min read

बेघर

ना बदलो तुम ईमान अपना सब बुरा कहेंगे
जन्नत भी यही जमीं पर गर सब प्यार करेंगे

तकरार करने से फायदा हुआ क्या किसका
काम बनेगें सब गर सब मिलकर साथ रहेंगे

क्यो अपने मां बाप को करते हो घर से बेघर
सोचे वो ओरों की भांति तो बच्चे बेघर मरेंगे

प्रकृति को तुमने दिया ही क्या है आज तक
सीखो कुछ जीवन मे सब रंग यही मिलेंगे

मोहन तू तो सच्चाई पर रहा कायम सदा ही
सब वायदे कर मुकर अपनी जेबें भरते रहेंगे

1 Comment · 208 Views
You may also like:
मैं कही रो ना दूँ
Swami Ganganiya
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
मिलन की तड़प
Dr.Alpa Amin
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️पिता:एक किरण✍️
'अशांत' शेखर
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
आस्था और भक्ति
Dr.Alpa Amin
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr.Alpa Amin
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
महाराणा प्रताप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वो पत्थर
shabina. Naaz
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
कविता को बख्श दो कारोबार मत बनाओ।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी तेरी मौत से
Dr fauzia Naseem shad
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
ख्वाब
Harshvardhan "आवारा"
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन और मृत्यु
Anamika Singh
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
कशमकश
Anamika Singh
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
“माँ भारती” के सच्चे सपूत
DESH RAJ
Loading...