Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 1 min read

बुढ़ापे के जवान जज्बात

ऐ दोस्त! उम्र मेरी साठ साल पार हो गयी पर दिल मेरा जवां रहा,
आँखों पर चश्मा जरूर चढ़ा पर हाल ऐ दिल आँखों से बयां रहा।

वक़्त के साथ झुर्रियाँ पड़ी चेहरे पर मगर मुस्कुराहट कातिल रही,
सब बदल गया पर अंदाज वो ही रहा जिससे रौशन महफ़िल रही।

आशिक मिजाजी रग रग में दौड़ती है पर दिल उसी पर फ़िदा रहा।
यूँ तो हजारों चेहरे रहे आँखों में पर उसका चेहरा सबसे जुदा रहा।

जब जब जिक्र हुआ उसके नाम का, मेरे दिल की धड़कनें बढ़ गई,
देख उसके नाम की मुस्कान मेरे लबों पर ज़माने की बोहैं चढ़ गई।

सुलक्षणा मत कुरेदो बुढ़ापे की राख को दिल के शोले दहकते मिलेंगे,
सुनकर मेरा किस्सा ऐ मोहब्बत कुछ मुरझायेगें चेहरे कुछ खिलेंगे।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Comments · 208 Views
You may also like:
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Kaur Surinder
🔉🎶क्या आप भी हमें गुनगुनाते हो?🎶🔉
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोग कहते हैं कि कवि
gurudeenverma198
*** " विवशता की दहलीज पर , कुसुम कुमारी....!!! "...
VEDANTA PATEL
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
तुझे क्या कहूँ
Pakhi Jain
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
अरदास
Buddha Prakash
चंद्रशेखर प्रसाद 'चंदू'
Shekhar Chandra Mitra
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महाराणा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
ये बारिश की बूंदें ऐसे मुझसे टकराईं हैं।
Manisha Manjari
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
प्रेमी और प्रेमिका की मोबाइल पर वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
देव प्रबोधिनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द पन्नों पर उतारा है
Seema 'Tu hai na'
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
बड़ी शिकायत रहती है।
Taj Mohammad
Loading...