Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 1 min read

बुढ़ापे के जवान जज्बात

ऐ दोस्त! उम्र मेरी साठ साल पार हो गयी पर दिल मेरा जवां रहा,
आँखों पर चश्मा जरूर चढ़ा पर हाल ऐ दिल आँखों से बयां रहा।

वक़्त के साथ झुर्रियाँ पड़ी चेहरे पर मगर मुस्कुराहट कातिल रही,
सब बदल गया पर अंदाज वो ही रहा जिससे रौशन महफ़िल रही।

आशिक मिजाजी रग रग में दौड़ती है पर दिल उसी पर फ़िदा रहा।
यूँ तो हजारों चेहरे रहे आँखों में पर उसका चेहरा सबसे जुदा रहा।

जब जब जिक्र हुआ उसके नाम का, मेरे दिल की धड़कनें बढ़ गई,
देख उसके नाम की मुस्कान मेरे लबों पर ज़माने की बोहैं चढ़ गई।

सुलक्षणा मत कुरेदो बुढ़ापे की राख को दिल के शोले दहकते मिलेंगे,
सुनकर मेरा किस्सा ऐ मोहब्बत कुछ मुरझायेगें चेहरे कुछ खिलेंगे।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Comments · 289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
इतना घुमाया मुझे
इतना घुमाया मुझे
कवि दीपक बवेजा
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
💐प्रेम कौतुक-330💐
💐प्रेम कौतुक-330💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"आंधी आए अंधड़ आए पर्वत कब डर सकते हैं?
*Author प्रणय प्रभात*
Sukun usme kaha jisme teri jism ko paya hai
Sukun usme kaha jisme teri jism ko paya hai
Sakshi Tripathi
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
मुझे मरने की वजह दो
मुझे मरने की वजह दो
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
गौरैया बोली मुझे बचाओ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
बेटी की बिदाई
बेटी की बिदाई
Naresh Sagar
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
आई वर्षा
आई वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
कुत्ते की व्यथा
कुत्ते की व्यथा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...