Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2022 · 1 min read

” बुलबुला “

” बुलबुला ”
गोल गोल मोटा मोटा
नर्म नर्म नाटा नाटा
थोड़ा मैं फूला फूला
मैं हूं पानी का बुलबुला,
बीजवाड़ फोर्ट का प्रांगण
तैर रहा था तरण ताल में
मीनू ने पकड़ लिया मुझे
मैं हूं पानी का बुलबुला,
सर्द मौसम कार्तिक का
सुनहरी धूप दुपहरी की
ठंड ने आजमाया था
मैं हूं पानी का बुलबुला,
रोमांचक गतिविधियां कर
नाश्ता पोहे का फिर कर
पूनिया परिवार नहाया था
मैं हूं पानी का बुलबुला।

Language: Hindi
3 Likes · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
लौट आयी स्वीटी
लौट आयी स्वीटी
Kanchan Khanna
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*नारी के सोलह श्रृंगार*
*नारी के सोलह श्रृंगार*
Dr. Vaishali Verma
मैं सब कुछ लिखना चाहता हूँ
मैं सब कुछ लिखना चाहता हूँ
Neeraj Mishra " नीर "
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कपट
कपट
Sanjay ' शून्य'
"इशारे" कविता
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
*पत्थरों  के  शहर  में  कच्चे मकान  कौन  रखता  है....*
*पत्थरों के शहर में कच्चे मकान कौन रखता है....*
Rituraj shivem verma
चैन से रहने का हमें
चैन से रहने का हमें
शेखर सिंह
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चिन्ता
चिन्ता
Dr. Kishan tandon kranti
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
अवसाद
अवसाद
Dr. Rajeev Jain
चुनावी मौसम
चुनावी मौसम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आजकल लोग बहुत निष्ठुर हो गए हैं,
आजकल लोग बहुत निष्ठुर हो गए हैं,
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
Bidyadhar Mantry
*बच्चों को ले घूमते, मॅंगवाते हैं भीख (कुंडलिया)*
*बच्चों को ले घूमते, मॅंगवाते हैं भीख (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
Loading...