Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 1 min read

बुलंदियों से भरे हौसलें…!!!!

जब राह के काटें भी पग को छलनी कर जाएं…
जब आसमां में ऊँचा उड़कर फ़िर नीचे गिर जाएं।।
जब आशाओं की सारी किरणें कहीं विलुप्त हो जाएं…
जब सफ़लता का मूल-मंत्र भी कहीं गुप्त हो जाएं।।
जब बाधाएं जीवन-पथ में आ जाएं…
जब प्रलय की घनघोर घटाएं छा जाएं।।
जब हम हताश हो जाएं…
जीवन से निराश हो जाएं।
जब उम्मीदें टूट कर बिखर जाएं…
जब ख़ुद को हारा पाकर-
सोचें, हम कहाँ जाएं और किधर जाएं।।
तब-
योद्धा की भांति, फ़िर खड़े होकर लड़ना होगा…
इस जीवन में कुछ करना होगा।।
माना की राहों में कांटे हैं और चारों तरफ़ नाकामी है…
माना की आशाएं सारी बिखर गई और लक्ष्य भी दुर्गामी है।।
माना की लक्ष्य टूट गया…
माना की सफ़र छूट गया।।
किन्तु फ़िर भी-
दोबारा हौसलों की उड़ान भरकर…
अंतिम श्वास तक लड़कर।।
असफलताओं को दिखाना है…
न उसका अब कहीं ठिकाना है।।
सफ़लता की किरण जगमगाएं…
हौंसलों से बुलंदियों को हम छू जाएं।।
जीत हो और जीत का ही मात्र एक विकल्प हो…
ऐसा हमारा संकल्प हो।।
न चुनौतियों से हम भयभीत हों…
और हार के आगे हमारी जीत हो।।
जब प्रयास हमारा कुछ ऐसा निश्चल होगा…
तब भविष्य ज़रूर उज्ज्वल होगा।।
और तभी तो ज़िंदगी की कसौटी पर हमारा ये जन्म अंततः सफ़ल होगा…!!!!
-ज्योति खारी

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
Phool gufran
पत्नी की खोज
पत्नी की खोज
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
■ सारा खेल कमाई का...
■ सारा खेल कमाई का...
*प्रणय प्रभात*
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
Pankaj Kushwaha
चिंता अस्थाई है
चिंता अस्थाई है
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डूबता सुरज हूँ मैं
डूबता सुरज हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"व्यवहार"
Dr. Kishan tandon kranti
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
" रहना तुम्हारे सँग "
DrLakshman Jha Parimal
मन मयूर
मन मयूर
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...