Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ

मेरी तो उम्र कटी लेखनी के साथ
तेरी भी उम्र कटे शायरी के साथ

फ़रेबियों की ज़रा बात क्या सुनी
फ़रेब ख़ूब हुए ज़िन्दगी के साथ

जहां में सब को ख़ुशी की तलाश है
भटक रहे हैं सभी नाख़ुशी के साथ

हरेक शख़्स को कुत्ते पसन्द हैं
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ

हमें भी पहली मुहब्बत ने ग़म दिए
मगर मज़े में रहे दूसरी के साथ

– शिवकुमार बिलगरामी

4 Likes · 888 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*माँ गौरी कर रहे हृदय से पूजन आज तुम्हारा【भक्ति-गीत 】*
*माँ गौरी कर रहे हृदय से पूजन आज तुम्हारा【भक्ति-गीत 】*
Ravi Prakash
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
gurudeenverma198
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
Shweta Soni
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
पूर्वार्थ
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
DrLakshman Jha Parimal
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जिसके पास क्रोध है,
जिसके पास क्रोध है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तितली
तितली
Manu Vashistha
अहमियत 🌹🙏
अहमियत 🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शेखर सिंह
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...