Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

बुद्ध पूर्णिमा विशेष:

बुद्ध पूर्णिमा विशेष:
ईर्ष्या और नफरत की भावनाएं
जीवन में कोई भी खुशी हासिल
नहीं करने देती है. ये भावनाएं हमारे
मन की शांति को खत्म कर देती है .
~ गौतम बुद्ध
बुद्धम शरणं गच्छामि…

67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
ज़िंदगी, ज़िंदगी ढूंढने में ही निकल जाती है,
ज़िंदगी, ज़िंदगी ढूंढने में ही निकल जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
नारी तेरा रूप निराला
नारी तेरा रूप निराला
Anil chobisa
हमारा देश भारत
हमारा देश भारत
surenderpal vaidya
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
अनजान राहें अनजान पथिक
अनजान राहें अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
पैगाम
पैगाम
Shashi kala vyas
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
अनपढ़ प्रेम
अनपढ़ प्रेम
Pratibha Pandey
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
Loading...