Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला

बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बाँस हो गयी हैं
उसे तमन्ना फिर भी जीने की
आँखों पर मोह का परदा नहीं
ये तो कनात हो गई है
अब भी छिछले पानी में तैर रहे वो
जिनकी निगाहें आसमान हो गई हैं
दरख्तों की रूह से लिपटा गुलबदन
रुखसत होकर चला फलक ओढ़ने
कमबख्त जड़ें पाताल हो गईं हैं
मन भँवरे सा उलझा है अब भी कली में
उड़ने की चाह में सम्भाला खुद को तो
दूर तक सुगबुगाहट हो गई है
आज भी बदला नहीं वह
पाँव कब्र में लटक रहे
हलक में जान हो गई है
भवानी सिंह “भूधर”
बड़नगर, जयपुर
दिनाँक:-०२/०४/२०२४

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
71
71
Aruna Dogra Sharma
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिल का आलम
दिल का आलम
Surinder blackpen
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
मां को नहीं देखा
मां को नहीं देखा
Suryakant Dwivedi
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
"लिख दो"
Dr. Kishan tandon kranti
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
पिछले पन्ने भाग 2
पिछले पन्ने भाग 2
Paras Nath Jha
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
दोस्ती का एहसास
दोस्ती का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
कल पहली बार पता चला कि
कल पहली बार पता चला कि
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
'I love the town, where I grew..'
'I love the town, where I grew..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
Loading...