Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)

बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
डाई बालों में लगी , दिखते काले बाल
पिचका मुख आंखें धँसी,झुर्री वाली खाल
झुर्री वाली खाल , कहाँ असली बत्तीसी
खाते पतली दाल ,रोज मिक्सी की पीसी
कहते रवि कविराय, बुढ़ापा अति दुखदाई
लगा जान को काम ,बाल हर हफ्ता डाई
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
रचयिता :रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )मोबाइल 999 7615451

143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
पंख पतंगे के मिले,
पंख पतंगे के मिले,
sushil sarna
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
🌸हास्य रस घनाक्षरी🌸
🌸हास्य रस घनाक्षरी🌸
Ravi Prakash
ये सफर काटे से नहीं काटता
ये सफर काटे से नहीं काटता
The_dk_poetry
■ और क्या चाहिए...?
■ और क्या चाहिए...?
*Author प्रणय प्रभात*
"यही वक्त है"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
शेखर सिंह
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
Dr. Kishan Karigar
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
आँखों   पर   ऐनक   चढ़ा   है, और  बुद्धि  कुंद  है।
आँखों पर ऐनक चढ़ा है, और बुद्धि कुंद है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
25- 🌸-तलाश 🌸
25- 🌸-तलाश 🌸
Mahima shukla
* ज़ालिम सनम *
* ज़ालिम सनम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
Loading...