Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla

• बुगुन लियोसिचला •
आती सूदूर से
पर्वतों को पार कर
अनवरत जारी है
आने का सिलसिला।
घाटियों को पार कर
उगते सूरज के
पर्वत पर।
घने जंगलों की आबो हवा
में घुल-मिल कर
गाती है गीत
चहकती है नन्हीं चिड़िया।
चुगती है दाने को
डालियों पर बैठकर
खेतों में दिखती है
रंगीन चिड़िया,
अनवरत जारी है
आने का सिलसिला।
निखरे सौंदर्य जब भी
सुहाने हों
नदिया किनारे
गुल्मों के झुरमुट
दिखती मुंडेर पर
अनवरत जारी है
आने का सिलसिला
चूं चूं कर उड़ती
बुगन लियोसिचला।।।
•अरुणाचल प्रदेश के बुगुन क्षेत्र में गौरैया
प्रजाति की एक चिड़िया
••© मोहन पाण्डेय ‘भ्रमर ‘
२१मार्च२०२४
चित्र साभार गूगल से

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
"वचन देती हूँ"
Ekta chitrangini
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
आव्हान
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
अब क्या करे?
अब क्या करे?
Madhuyanka Raj
उधार ....
उधार ....
sushil sarna
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
वरदान है बेटी💐
वरदान है बेटी💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
Rituraj shivem verma
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
2468.पूर्णिका
2468.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब एक ज़िंदगी है
जब एक ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...