Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

बुंदेली दोहा

बिषय- हओ (हां)

1

जब बै दिखै उलायते , तुमै लगै उकतात |
हओ न #राना कै धरौ ,हुइयै काम नसात ||
***
2

जीकी चाने हओ तुमे, हम बतलातइ बात |
नस पकरो #राना उतै , ऊकी कितै पिरात ||
***

3
#राना से वें कत हओ, पाछै मुड़ी हिलात |
फूटी कौड़ी जानतइ , सब उनकी औकात ||
***

© राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक- “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com

3 Likes · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सच का सच
सच का सच
डॉ० रोहित कौशिक
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
निर्मल भक्ति
निर्मल भक्ति
Dr. Upasana Pandey
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
😊
😊
*प्रणय प्रभात*
3195.*पूर्णिका*
3195.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हरे खेत खलिहान जहां पर, अब दिखते हैं बंजर,
हरे खेत खलिहान जहां पर, अब दिखते हैं बंजर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
मनुख
मनुख
श्रीहर्ष आचार्य
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
*लता (बाल कविता)*
*लता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"प्यासा"-हुनर
Vijay kumar Pandey
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
Winner
Winner
Paras Nath Jha
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Mahesh Kumawat
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
Subhash Singhai
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
योग महा विज्ञान है
योग महा विज्ञान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...