Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 2 min read

बुंदेली दोहा – सुड़ी

बुन्देली दोहा प्रतियोगिता-162
संयोजक राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक- जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़
शनिवार,दिनांक – 04/05/2024
बिषय – ‘ सुड़ी ‘
1
रेंन,कनक,कै हो कुदइ,जादाँ नहीं खटात।
मइँनन जो भरकें धरौ,सदाँ सुडी पर जात।।
***
– डॉ. देवदत्त द्विवेदी, बड़ा मलहरा
2
सुडी चनन में जा लगी,भओ बोत नुकसान।
भई फसल आदी बची,का गत भइ भगवान।।
***
-श्यामराव धर्मपुरीकर,गंजबासौदा, विदिशा
3
दार भात रोटी चुपर, थारी दइ सरकाय।
देख सुड़ी खौ दार में,कौर न गुटकों जाय।।
***
– एस आर ‘सरल’, टीकमगढ़
4
सुडी सड़े में है मिलत ,सड़ी चीज दो फेंक।
ताजौ खाना खाव तुम ,रोज आग पै सेंक।।
***
-वीरेन्द्र चंसौरिया ,टीकमगढ़
5
राजनीति में अब सुड़ी,सबखौं मुलक दिखात।
चमचा जिनखौं कात हैं,टाँड़ी से उतरात।।
***
-सुभाष सिंघई , जतारा
6
गुड़ी-मुड़ी मारैं सुड़ी, सोचत मूड़ खुजाय।
हमइ घाइं है आदमी, खाय-पिये अरु जाय।।
***
-संजय श्रीवास्तव, मवई
7
सुड़ी चाँवरन में भई, परै लिंजूटा दार ।
देख तिलूला नाज में, दय घामैं में डार ।।
***
– डॉ.बी.एस.रिछारिया, छतरपुर
8
सुड़ी चून में, पर गईं चल्ली सैं लो छान ।
मेंदा आटे में परीं,लगा लेव तुम ग्यान ।।
***
-शोभाराम दाँगी इन्दु, नदनवारा
9
इल्ली नें खा लय चना,सरसों मैंटी माउ।
पिसिया में भये तितुला,बोले मूरत दाउ।।
***
– मूरत सिंह यादव, दतिया
10
सुड़ी परे चाॅंवर कनक,स्वाद हीन हो जात।
जैसें बूढ़े आदमी, सबखों बुरय बसात।।
***
-भगवान सिंह लोधी “अनुरागी”

11
सुडी देखकें नाजमें,परगइ गुडी लिलार।
अब खाबेको नारहो,भव सबरो बेकार।
***
– एम.एल.अहिरवार ‘त्यागी’, खरगापुर

12
उल्टी चली बयार अब,दूषित भयो समाज।
चाल चलन बिगरन लगे,सुड़ी लगै ज्यों नाज।
***
-आशा रिछारिया जिला निवाड़ी
13
खेती-पाती है नहीं,करन खान काॅं जाय।
सुड़ी दार उर चून खा,बैठी मजा उड़ाय।।
***
आशाराम वर्मा “नादान” पृथ्वीपुर
14
सुडी़ परै नइँ नाज में,कर रय खूब विचार।
ऊखों बंडा में धरें,खोजत हैं उपचार।।
***
रामेश्वर प्रसाद गुप्ता इंदु.,बडागांव झांसी उप्र.
15
मुलक दिनन ना सैंतियौ, भइया कौनउँ नाज।
अगर सुडी हो जैय तौ,कर्री लग है खाज।।
***
-रामानन्द पाठक नन्द, नैगुवां
16
खाना में निकरी सुड़ी,बिगरौ सबरौ स्वाद।
उठा लट्ठ दव मूँड़ में, बड़ गई भौतइँ व्याद।।
***
– अंजनी कुमार चतुर्वेदी, निबाड़ी
######@@@@######

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
Ravi Prakash
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Happy Father Day, Miss you Papa
Happy Father Day, Miss you Papa
संजय कुमार संजू
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
"तू है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
Suryakant Dwivedi
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
*मेरा आसमां*
*मेरा आसमां*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
सगीर की ग़ज़ल
सगीर की ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
*प्रणय प्रभात*
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
Loading...