Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)

बुंदेली दोहा – सुड़ी (इल्ली)

#राना देखत है सुड़ी,बन्न-बन्न की हौत।
पर सब लगती है बुरइँ,तकत न उनकी कौत।।

एक सुड़ी पर जाय तौ,’राना’ लगे कतार।
छान-छान हैरान रत,फटकत सब नर नार।।

सुड़ी समझ लौ कीट है,अन्न करत वरबाद।
जितै लगै#राना उतइँ,बढ़तइ रत तादाद।

#राना अपने देश में,पड़ी सुड़ी है भौत।
खाकै अपने देश कौ,पाकिस्ता खौं रौत।।

#राना रइयौ चेत कै,है चुनाव अब आज।
सबइँ सुड़ी फटकार दो,उमदा राखौ राज।।
एक हास्य दोहा –

धना कात#राना सुनौ,कैसौ लायै चून।
उतरा रइँ मुलकन सुड़ी,का दै सबखौ भून।।
***दिनांक-4-5-2024

✍️ राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब तुम
जब तुम
Dr.Priya Soni Khare
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
पुरानी गली के कुछ इल्ज़ाम है अभी तुम पर,
पुरानी गली के कुछ इल्ज़ाम है अभी तुम पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
Taj Mohammad
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
VEDANTA PATEL
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
■ पता नहीं इतनी सी बात स्वयम्भू विश्वगुरुओं को समझ में क्यों
■ पता नहीं इतनी सी बात स्वयम्भू विश्वगुरुओं को समझ में क्यों
*प्रणय प्रभात*
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
कैसी होती हैं
कैसी होती हैं
Dr fauzia Naseem shad
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
16.5.24
16.5.24
sushil yadav
2509.पूर्णिका
2509.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ
माँ
Anju
आवाज़
आवाज़
Adha Deshwal
*Eternal Puzzle*
*Eternal Puzzle*
Poonam Matia
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
दोस्त और दोस्ती
दोस्त और दोस्ती
Anamika Tiwari 'annpurna '
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हौसलों कि उड़ान
हौसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
Help Each Other
Help Each Other
Dhriti Mishra
चलते चलते थक गया, मन का एक फकीर।
चलते चलते थक गया, मन का एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
बड़े ही खुश रहते हो
बड़े ही खुश रहते हो
VINOD CHAUHAN
Loading...