Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

बुंदेली दोहा- चिलकत

बुंदेली दोहा विषय – चिलकत (चमकता)

इसका उच्चारण मात्रा भार ( चिल+कत = दो +दो है , इस शब्द से यति और पदांत नहीं हो सकता है , अत: ऐसे शब्दों का प्रयोग प्रारंभ और मध्य में किया जाता है
सादर

भारत भी चिलकत रयै , #राना मंशा आज |
सब लौगन के काम से , आय ‌राम कौ राज ||

चिलकत #राना आदमी , नियत रखै जो साफ |
खौटोंपन उतरात है , कोउ करत ना माफ ||

नेता चिलकत से लगैं , जीतैं अगर ‌ चुनाव |
हारे करिया से लगत , #राना मिलत न भाव ||

चिलकत मन उनकौ सदा , भजन सदा जो गाँय |
#राना रातइ मस्त हैं , फल भी नौनों पाँय ||

चिलकत रहियौ सब इतै , लिखियौ अक्छर चार |
हिलै – मिलै #राना रयैं , करैं पटल सिंगार ||

हम तुम सब चिलकत रयैं , हृदय भाव मजबूत |
#राना नौनों लिख चलैं , बनें शारदा पूत ||
***

✍️ राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सफल सारथी  अश्व की,
सफल सारथी अश्व की,
sushil sarna
खुदा सा लगता है।
खुदा सा लगता है।
Taj Mohammad
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
निःशुल्क
निःशुल्क
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
सच तुम बहुत लगती हो अच्छी
सच तुम बहुत लगती हो अच्छी
gurudeenverma198
2977.*पूर्णिका*
2977.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उमंग जगाना होगा
उमंग जगाना होगा
Pratibha Pandey
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
बेडी परतंत्रता की 🙏
बेडी परतंत्रता की 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
*सुबह टहलना (बाल कविता)*
*सुबह टहलना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
Loading...