Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)

बोलो ! ईश्वर ! अब कैसे हो ?

उड़ा रहे
फोकट में पैसे
चाय फुरकते पान चबाते
बगलोलों से
छद्म प्रसंशा
सुन-सुन अपने गाल फुलाते

बरसा बहुत
बहा सब पानी
ओंधे पड़े घड़े जैसे हो ।

खोल किताबें
शब्द चुनाचुन
इधर-उधर की डींग हाँकना
चालू है, कि
बंद हो गया
चटका चप्पल सड़क नापना

बदली-सी इन
स्थितियों में
बदले या पहले जैसे हो ।

अब भी लगता
गिर्द तुम्हारे
वही चाटूकारों का मजमा
अब भी आँखें
वही पुरानी
या फिर बदल लिया है चश्मा

बोलो भी कुछ
सुधरे हो ! या
जैसे थे बिल्कुल वैसे हो ।

जब तक पैसा
रहा जेब में
बाँटा, खरचा मौज उड़ाया
इंग्लिश-गाली
बकी हवा में
और ‘धुएँ में लट्ठ घुमाया’

पूछ रहे अब
बच्चे, पापा !
तुम शरीर हो, या पैसे हो ।
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी

Language: Hindi
Tag: गीत
9 Likes · 18 Comments · 557 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
हवस
हवस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम ने हम को जितने  भी  गम दिये।
तुम ने हम को जितने भी गम दिये।
Surinder blackpen
2946.*पूर्णिका*
2946.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंग उकेरे तूलिका,
रंग उकेरे तूलिका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ लघु व्यंग्य कविता
■ लघु व्यंग्य कविता
*Author प्रणय प्रभात*
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
शर्तो पे कोई रिश्ता
शर्तो पे कोई रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD CHAUHAN
कला
कला
Saraswati Bajpai
*बेचारे  वरिष्ठ नागरिक  (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
हुनर में आ जाए तो जिंदगी बदल सकता है वो,
हुनर में आ जाए तो जिंदगी बदल सकता है वो,
कवि दीपक बवेजा
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
फागुन
फागुन
Punam Pande
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हँसी
हँसी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...