Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

बीती यादें

बीती यादें लेकर जाये कहां,?
अपना नहीं कोई और आस्तां।

भूलने वाले इतना तो सोच तू
चाक हो गया किसी का गिरेबां।

बेहतर है भूल जाते हम भी तुम्हें
जीना हमारा भी हो जाता आसां।

बेसबब संभाल रखें है क्यूं हमने
कुछ ख़त,सूखे गुलाब और अरमां।

मिले थे तो,मिल भी गये होते
मिले भी तो बस, कदमों के निशान।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
कर्म प्रधान
कर्म प्रधान
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
2437.पूर्णिका
2437.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"अखाड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
*Author प्रणय प्रभात*
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
माँ
माँ
Er. Sanjay Shrivastava
जहरीला साप
जहरीला साप
rahul ganvir
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
💐💐उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है💐💐
💐💐उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एहसास
एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
मर्द को दर्द नहीं होता है
मर्द को दर्द नहीं होता है
Shyam Sundar Subramanian
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
gurudeenverma198
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...