Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,

बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
जब भी ग़म को करीब से देखा।

1 Like · 421 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी आंखों में कोई
मेरी आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
फ़ितरत-ए-धूर्त
फ़ितरत-ए-धूर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
माँ
माँ
Kavita Chouhan
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कौन नहीं है...?
कौन नहीं है...?
Srishty Bansal
टिकोरा
टिकोरा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#सबक जिंदगी से #
#सबक जिंदगी से #
Ram Babu Mandal
💐प्रेम कौतुक-289💐
💐प्रेम कौतुक-289💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मोरे मन-मंदिर....।
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
महान क्रांतिवीरों को नमन
महान क्रांतिवीरों को नमन
जगदीश शर्मा सहज
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
सुन सको तो सुन लो
सुन सको तो सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
Subhash Singhai
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
सुबह-सुबह की लालिमा
सुबह-सुबह की लालिमा
Neeraj Agarwal
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
तुम रट गये  जुबां पे,
तुम रट गये जुबां पे,
Satish Srijan
Loading...