Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,

बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
हर महकती से ख़ुशबू एक जादू सा आश जगाथे।
कतका भी ब्यस्त रईही ये जिन्दगी ,
त भो ले बिहानन्हा बिहनन्हा अपन मन के याद आ ही जाथे।।
Good morning
कृष्ण कुमार अनंत

1 Like · 1 Comment · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ एक मुक्तक...
■ एक मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत  है।
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
"कभी मेरा ज़िक्र छीड़े"
Lohit Tamta
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बन्दे   तेरी   बन्दगी  ,कौन   करेगा   यार ।
बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।
sushil sarna
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
3066.*पूर्णिका*
3066.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी परछाई बस मेरी निकली
मेरी परछाई बस मेरी निकली
Dr fauzia Naseem shad
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
'अशांत' शेखर
कर सत्य की खोज
कर सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
बेवक्त बारिश होने से ..
बेवक्त बारिश होने से ..
Keshav kishor Kumar
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ग़म का सागर
ग़म का सागर
Surinder blackpen
बसहा चलल आब संसद भवन
बसहा चलल आब संसद भवन
मनोज कर्ण
Loading...