Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

बिसुणी (घर)

बिसुणी (घर)
घणों चालणो, पेंडो लाम्बो, तिरस्यां लागै दूणी।
थक ज्यांवा जद, बासो लेवण याद आवै बिसुणी।।

1 Like · 153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3478🌷 *पूर्णिका* 🌷
3478🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
प्रेम अटूट है
प्रेम अटूट है
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
सताता है मुझको मेरा ही साया
सताता है मुझको मेरा ही साया
Madhuyanka Raj
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
चाँद
चाँद
Davina Amar Thakral
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा*
Ravi Prakash
शायद ...
शायद ...
हिमांशु Kulshrestha
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Lines of day
Lines of day
Sampada
Love life
Love life
Buddha Prakash
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
Dheerja Sharma
Loading...